Go With The Flow

जानिए मासिक धर्म के समय होने वाले दर्द से बचने के लिए कौन से तरीके अपनाएं?

event-img

क्या मासिक धर्म के दौरान होने वाला गंभीर दर्द आपको स्कूल, कॉलेज या फिर दफ्तर में आपके काम या यूं कहें प्रोडक्टिविटी लेवल को प्रभावित कर रहा है? क्या आप मासिक धर्म के पहले तीन दिनों से अधिक समय तक होने वाली ऐंठन के कारण सामाजिक जीवन से खुद को गायब पाती हैं? क्या आपको लगता है कि गंभीर दर्द में ली जाने वाली दवा भी आपके मासिक धर्म के दर्द को दूर करने में विफल हो रही हैं? अगर इन सभी सवालों को लेकर आपका जवाब हां है, तो ऐसा हो सकता है कि आप डिसमेनोरीया से पीड़ित हैं।

मासिक धर्म से जुड़ी ऐंठन यानी क्रैम्प्स को  क्लिनिकल भाषा में डिसमेनोरीया कहा जाता है। जिसमें कमर और पेट के निचले हिस्‍से में तेज दर्द (menstrual pain in Hindi) होता है, साथ ही ऐंठन होती है। हमारे पीरियड्स अपने साथ कई आंतरिक मासिक धर्म के लक्षण लेकर आते हैं, जिसमें दर्द सबसे ऊपर होता है। पीरियड क्रैम्प की गंभीरता हल्के से लेकर गंभीर तक हो सकती है। सब में दर्द का स्तर अलग-अलग होता है। जैसे ही ओव्यूलेशन शुरू होता है- अंडाशय एक अंडा छोड़ता है, जो फैलोपियन ट्यूब से नीचे चला जाता है और कुछ समय बाद मासिक धर्म की ऐंठन होती है।

लेकिन अब वो दिन गए जब असहजता में जीते हुए महिलाओं को चुपचाप सारा दर्द सहन करना पड़ता था । चलिए अगर आप भी पीरियड्स के दौरान होने वाली इन दिक्कतों से छुटकारा पाना चाहती हैं, तो RIO की विशेष गाइड इसमें आपका साथ देगी। इसमें बताया गया है कि 1) मासिक धर्म के दर्द को कैसे रोकें और 2) मासिक धर्म के दर्द को कैसे कम करें और कैसे ऐंठन को अपनी जीवन शैली प्रभावित न करने दें!

मासिक धर्म के दर्द से जुड़ी जरूरी बातें

मासिक धर्म के दर्द दो प्रकार के होते हैं- प्राइमरी और सेकेंडरी डिसमेनोरीया.

प्राइमरी डिसमेनोरीया- 20 की उम्र के आसपास की टीनेज लड़कियों और महिलाओं में गर्भाशय की परत में प्राकृतिक प्रोस्टाग्लैंडीन हार्मोन की अधिकता के कारण होने वाले दर्द को प्राइमरी डिसमेनोरीया के रूप में जाना जाता है। यहां मासिक धर्म की ऐंठन को पैदा करने के लिए कोई बाहरी स्थिति या अन्य बीमारियां जिम्मेदार नहीं हैं। प्रोस्टाग्लैंडीन मासिक धर्म में दर्द पैदा करने के लिए गर्भाशय में मांसपेशियों और रक्त वाहिकाओं के संकुचन और रिलैक्सेशन प्रदान करता है। आप में पीरियड्स के पहले एक से दो दिनों में प्रोस्टाग्लैंडीन का स्तर अपने उच्चतम स्तर पर पाया जाता है, लेकिन धीरे-धीरे गर्भाशय की परत दर्द की तीव्रता को कम करने के लिए खुद को फैलाने लगती है।

सेकेंडरी डिसमेनोरीया- सेकेंडरी डिसमेनोरीया उसे कहते हैं, जिसमें पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम, एंडोमेट्रियोसिस और गर्भाशय फाइब्रॉएड जैसे प्रजनन स्वास्थ्य विकारों से कारण मासिक धर्म के दौरान दर्द होता है। यह गर्भाशय सहित आपके प्रजनन अंगों को नकारात्मक रूप से प्रभावित करता है। सेकेंडरी डिसमेनोरिया के मामले में मासिक धर्म से कुछ दिन पहले ऐंठन होने लगती है और ये धीरे-धीरे बढ़ती जाती है। अक्सर आपका मासिक धर्म खत्म होने के बाद भी मासिक धर्म का दर्द (period pain relief tips Hindi) दूर नहीं होता है। सेकेंडरी डिसमेनोरीया आमतौर पर 30 से 40 की उम्र की महिलाओं को होता है।

प्रोस्टाग्लैंडीन के लेवल में वृद्धि सामान्य दर्द रहित गर्भाशय का संकुचन करती हैं। जिससे मांसपेशियों से ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती। ये ऑक्सीजन इसलिए रुक जाती है क्योंकि प्रोस्टाग्लैंडीन लगातार बढ़ता है। इसे दर्द के रूप में अनुभव किया जाता है। होता ये है कि आमतौर पर दबाव वाली मांसपेशियों में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। इसका हमेशा कोई सटीक कारण नहीं होता है। कुछ महिलाओं में दूसरों की तुलना में अधिक गर्भाशय प्रोस्टाग्लैंडीन होते हैं। हालांकि जिन महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान तेज दर्द होता है, उनमें जीवन की गुणवत्ता भी काफी कम देखी गई है।

आपके लिए अपने शरीर को बेहतर ढंग से जानना काफी जरूरी है कि मासिक धर्म के लक्षण क्या हैं और क्या नहीं हैं। आपको उन प्रमुख लक्षणों के बारे में जानने की जरूरत है, जो आपके लिए नियमित हो सकते हैं, किसी और के लिए चिंता का एक गंभीर कारण भी हो सकते हैं।

अधिकांश महिलाओं ने इस तथ्य को अपना लिया है कि पीरियड्स में बहुत असहजता अनुभव की जाती है। आपकी मां या फिर बहन या आपको खुद को इसकी वजह से दर्दनाक समय से गुजरना होता है। यही देखकर हम बड़े भी होते हैं।

मासिक धर्म के विषय में शर्म आना और शर्मिंदगी महसूस होना, वो नकारात्मक भावनाएं हैं, जिनके चलते महिलाएं इससे जुड़े जरूरी प्रोडक्ट नहीं खरीद पातीं। न ही वह दर्द को कम करने के लिए तत्काल चिकित्सा सहायता प्राप्त कर पाती हैं। जिन महिलाओं को पीरियड्स के दौरान ऐंठन और भारी मासिक धर्म रक्तस्राव का अनुभव होता है, वे आमतौर पर अपने दर्द के बारे में बात करने से हिचकिचाती हैं। स्वाभाविक रूप से, वे अपने लक्षणों की गंभीरता को समझने के लिए परेशान रहती हैं।

डॉक्टरों को मासिक धर्म संबंधी दिक्कतों का बेहतर निदान करने और उनका प्रभावी ढंग से इलाज करने में मदद के लिए पहला कदम परिवार, दोस्तों और सहकर्मियों के सामने दर्दनाक पीरियड्स को लेकर अधिक खुली बातचीत शुरू करके मासिक धर्म से जुड़े कलंक को दूर करना होगा।

मासिक धर्म में भेदभाव करने वाली चीजों का समर्थन न करके, समाज और स्वास्थ्य सेवा समुदाय में इसे चर्चा का विषय मनाना होगा, ताकि अधिक महिलाओं को अपनी चिंताओं और दर्द की कहानियों को कहने का साहस मिल सके। निरंतर शिक्षा और समर्थन से समुदाय की चुप्पी और वर्जना को तोड़ा जा सकता है।

चूंकि मासिक धर्म हमारे समग्र स्वास्थ्य के बारे में बताता  है, इसलिए हमें अपने मासिक धर्म के स्वास्थ्य में अचानक होने वाले परिवर्तनों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए क्योंकि वे अधिक महत्वपूर्ण समस्या का संकेत हो सकते हैं। यह समझना अनिवार्य है कि तेज ऐंठन और अनियमित पीरियड्स सामान्य नहीं होते और यह एक संकेत हो सकता है कि हमारा शरीर ठीक नहीं है।

मासिक धर्म में दर्द कितना आम है?

मासिक धर्म में दर्द होना बहुत आम बात है। चिकित्सा अनुसंधान के आंकड़ों के अनुसार, लगभग 4 में से 3 लोग, यानी 90 फीसदी महिलाएं, मासिक धर्म से पहले या उसके दौरान ऐंठन का अनुभव करती हैं। लेकिन 10 में से केवल 1 महिला ही तेज दर्द का अनुभव करती है, जो उनके दैनिक गतिविधि स्तर को गंभीर रूप से प्रभावित करता है।

 मासिक धर्म की ऐंठन पीरियड्स के दौरान अचानक आती है और चली जाती है। लेकिन आमतौर पर भारी रक्तस्राव के समय दर्द काफी देखने को मिलता है। महिलाओं के इसी दर्द का या तो इलाज नहीं हो पाता या फिर इस पर कभी ध्यान ही नहीं दिया जाता।

 जिन लड़कियों को 12 से 13 साल की उम्र में पीरियड्स हो जाते हैं, उन्हें तीस साल की उम्र से पहले तीव्र मासिक धर्म के दर्द का अनुभव होने की संभावना अधिक होती है। साथ ही अगर आपको भारी मासिक धर्म रक्तस्राव या मेनोरेजिया है, तो इसका मतलब है कि आप तेज पीरियड क्रैंप यानी ऐंठन की तरफ बढ़ रहे हैं। मासिक धर्म में ऐंठन के अन्य जोखिम कारकों में धूम्रपान और अनियमित मासिक धर्म शामिल हैं।

यहां मासिक धर्म में ऐंठन के मुख्य लक्षण दिए गए हैं, जिन पर आपको ध्यान देना चाहिए:

 कंजेस्टिव और स्पस्मोडिक दर्द का एक साथ होना

  • पेट में तेज दबाव
  • मासिक धर्म के दौरान आपके गर्भाशय में तेज दर्द का अनुभव होना
  • पेट के निचले हिस्से में दर्द होना, जो बिना किसी चेतावनी के गंभीर हो सकता है
  • भारी मासिक धर्म रक्तस्राव में रक्त के थक्कों और ऊतकों का बाहर निकलना
  • मासिक धर्म में ऐंठन होना, जो जांघों, कूल्हों और पीठ के निचले हिस्से तक फैलती है
  • सिरदर्द, मतली और चक्कर आना
  • उल्टी, कब्ज या दस्त जैसी पाचन संबंधी समस्याएं

मासिक धर्म के दर्द सहित ये सभी चीजें बनती हैं चुनौतियां

यहां मासिक धर्म के दर्द से जुड़ी कुछ महत्वपूर्ण चुनौतियां बताई गई हैं:

प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम- मासिक धर्म से पहले के सप्ताह में प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन के स्तर में गिरावट को प्रीमेंस्ट्रुअल सिंड्रोम (पीएमएस) कहते हैं। इसके अधिक गंभीर वर्जन को प्रीमेंस्ट्रुअल डिस्फोरिक डिसऑर्डर के रूप में जाना जाता है। पीएमएस में भारी रक्तस्राव, मासिक धर्म में तेज दर्द, वजन बढ़ना, मुंहासे निकलना, थकान और भूख में बदलाव जैसे लक्षण दिखाई देते हैं।

  • मैन्स्ट्रुएल डिसऑर्डर- मासिक धर्म में दर्द (periods pain relief in Hindi) अक्सर एंडोमेट्रियोसिस और एडिनोमायोसिस जैसी स्थितियों से जुड़ा होता है। एंडोमेट्रियोसिस के दौरान, ऊतक जो गर्भाशय में जाते हैं और अंडाशय, फैलोपियन ट्यूब और यहां तक कि मूत्राशय पर इम्प्लांट होते हैं। वह टूट जाते हैं और दर्द के साथ आपके नियमित मासिक धर्म के दौरान खून बहने लगता है। अगर इसका इलाज न हो तो इन विकारों से गर्भाशय पर निशान पड़ सकते हैं और अंडाशय में रक्त से भरी दर्दनाक गांठ बन सकती हैं।
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम- मासिक धर्म में ऐंठन अक्सर पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम की हार्मोनल स्थिति के साथ होती है, जिसके कारण किनारों पर बढ़े हुए अंडाशय पर गांठ बन जाती हैं। पीसीओएस के बढ़ने से आपके दर्दनाक पीरियड्स और गंभीर हो जाते हैं।
  • मैनोपॉज- दर्दनाक पीरियड्स की ऐंठन अक्सर मैनोपॉज का संकेत भी हो सकती है क्योंकि मैनोपॉज के दौरान हार्मोन के उतार-चढ़ाव से मासिक धर्म की कमी हो सकती है, जिससे ऐंठन होने लगती है।
  • गर्भाशय से जुड़े दोष- मासिक धर्म की ऐंठन आमतौर पर गर्भाशय में दिक्कतों से जुड़ी होती है, जैसे दो गर्भाशय का एक गर्भाशय ग्रीवा में जाना या ऊतक बैंड की उपस्थिति होना। यहां तक कि कई जगह बढ़ने वाला बेनाइन गर्भाशय फाइब्रॉएड और गर्भाशय के आसपास वाले फाइब्रॉएड जरूरी रक्त वाहिकाओं पर दबाव डालते हैं, जिसके परिणामस्वरूप मासिक धर्म में दर्द होता है और रक्त प्रवाह बढ़ाता है।
  • एक्टोपिक गर्भावस्था- अगर आप अपनी गर्भावस्था में जटिलताओं से गुजर रही हैं, तो मासिक धर्म में दर्द और भारी रक्तस्राव एक्टोपिक गर्भावस्था का संकेत दे सकता है, जहां फर्टीलाइज एग गर्भाशय के अंदर पहुंचने के बजाय एंडोमेट्रियम से जुड़ जाता है।
  • पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज (पीआईडी)- पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज जैसे बैक्टीरिया के संक्रमण, जो गर्भाशय ग्रीवा, अंडाशय, फैलोपियन ट्यूब और गर्भाशय को प्रभावित करते हैं, मासिक धर्म में ऐंठन का कारण बनते हैं।
  • वजन बढ़ना- अचानक वजन बढ़ने से वसा वाली कोशिकाओं द्वारा एस्ट्रोजन की रिलीज में वृद्धि होती है और इस एस्ट्रोजन के कारण तेज दर्द और कभी भी मासिक धर्म हो जाता है।
  • सर्वाइकल स्टेनोसिस- मासिक धर्म में दर्द सर्वाइकल स्टेनोसिस का एक सामान्य लक्षण है, जहां गर्भाशय ग्रीवा का कम खुलना गर्भाशय के दबाव को बढ़ाने और ऐंठन को बढ़ाने का काम करता है। इसकी वजह से पीरियड्स में रक्त के प्रवाह में बाधा उत्पन्न होती है।

इन समस्याओं का निदान क्या है?

सबसे पहले आपका डॉक्टर आपके प्रजनन के अंगों में किसी भी असामान्यता की जांच करने के लिए एक पैल्विक टेस्ट करेगा और फिर आपकी मेडिकल हिस्ट्री पता करेगा।

आपके लगातार मासिक धर्म के दर्द के पीछे के प्रमुख कारण का पता लगाने के लिए, डॉक्टर अन्य टेस्ट भी लिख सकते हैं जैसे:

  • अल्ट्रासाउंड- यहां आपके गर्भाशय, गर्भाशय ग्रीवा, अंडाशय और फैलोपियन ट्यूब साउंड वेव्स के इस्तेमाल से बनाई जाती हैं।
  • एक सीटी स्कैन और एमआरआई- ये बिना दर्द के आपके शरीर में हड्डियों और अन्य सभी कोमल ऊतकों की विस्तृत क्रॉस-सेक्शनल तस्वीरों को तैयार करने में मदद करते हैं।
  • लैप्रोस्कोपी- लैप्रोस्कोपी के दौरान आपके आंतरिक अंगों और एंडोमेट्रियोसिस, आसंजन, फाइब्रॉएड, डिम्बग्रंथि की गांठ और एक्टोपिक गर्भावस्था को बेहतर ढंग से देखने के लिए आपके पेट में एक छोटे कैमरे के लेंस के साथ एक फाइबर ऑप्टिक ट्यूब डाली जाती है।

पीरियड क्रैम्प को अपना स्टाइल प्रभावित करने दें

पीरियड्स हर महीने होते हैं, लेकिन जरूरी नहीं इसका दर्द भी हर महीने हो। तो चलिए अब जानते हैं कि पीरियड का दर्द कैसे कम करें या फिर इसे कैसे रोका जा सकता है:

  • सिकाई करें- कई अध्ययनों के अनुसार, मासिक धर्म में ऐंठन से राहत के लिए हीट थेरेपी काफी फायदेमंद हो सकती है क्योंकि यह गर्भाशय की मांसपेशियों में तनाव को समाप्त करती है और रक्त प्रवाह को बढ़ाती है। आप अपने पेट और पीठ के निचले हिस्से में हीटिंग पैड, गर्म पानी की बोतल या गर्म तौलिया लगाकर सिकाई कर सकती हैं। अगर आपको कहीं भी हीटिंग पैड नहीं मिलता है, तो आप या तो गर्म पानी से नहा सकती हैं या अपने हीटिंग पैड को बिना पके चावल के साथ गर्म पानी भरकर इस्तेमाल करें। इसे कुछ मिनट के लिए माइक्रोवेव करें और उपयोग करने से पहले इसे ठंडा होने दें।
  • हाइड्रेट- पीरियड्स के दौरान सूजन को रोकने के लिए हाइड्रेट रहना जरूरी है, नहीं तो मासिक धर्म में ऐंठन हो सकती है। खुद को हाइड्रेट करने के लिए फलों का जूस, स्मूदी और पानी आधारित खाद्य पदार्थ जैसे तरबूज, खीरा, जामुन और सलाद के साथ एक दिन में कम से कम आठ गिलास सादा पानी पिएं।
  • गर्म पानी और गर्म पेय पीना- यह मासिक धर्म के दर्द से छुटकारा पाने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है (period pain relief tips in Hindi)। कैफीन को गर्भाशय में रक्त वाहिकाओं को संकुचित करने और मासिक धर्म के दर्द का इलाज करने के लिए जाना जाता है। इस प्रकार अदरक, कैमोमाइल, और सौंफ वाली चाय जैसे हर्बल गैर-कैफीनयुक्त पेय पदार्थों को लेना भी सबसे अच्छा होगा, जो मांसपेशियों की ऐंठन को शांत करने में मदद कर सकते हैं। इसके अलावा, हर्बल चाय तनाव को दूर करने और अनिद्रा को कम करने में मदद करती है।
  • हेल्दी खाना खाएं- हम सभी जानते हैं कि मासिक धर्म के दौरान शरीर में महत्वपूर्ण मात्रा में आयरन की कमी हो जाती है। आयरन से भरपूर खाद्य पदार्थ जैसे अंडे, टोफू, क्विनोआ और डार्क चॉकलेट खाने से आपके आयरन के स्तर को फिर से भरकर एनीमिया को रोकने में मदद मिलेगी। आहार की खुराक जो आपको आवश्यक विटामिन और विटामिन ई, डी कैल्शियम, मैग्नीशियम जैसे खनिज प्रदान करती है, वे भी सूजन को कम करने के बाद दर्द से राहत देने में मदद कर सकते हैं। अधिक दीर्घकालिक सकारात्मक परिणामों के लिए पीरियड्स के बाद भी हेल्दी खाने का सेवन करना जारी रखें। आपको प्रोसेस्ड और रिफाइंड खाने जैसे फ्रेंच फ्राइज, ब्राउनी और चॉकलेट से सख्ती से दूर रहना चाहिए क्योंकि उनकी अधिक चीनी और नमक वाली सामग्री सूजन और ऐंठन के कारण आपके मासिक धर्म के दर्द को बढ़ा सकती है।

वैज्ञानिकों को सूजन और मासिक धर्म के दर्द के बीच एक स्पष्ट संबंध मिला है। मासिक धर्म के दर्द का सामना करने वाली महिलाओं के इलाज के लिए कम वसा वाले शाकाहारी भोजन और डेयरी के तीन से चार उत्पादों का सेवन करने से मासिक धर्म काफी कम हो गया। तो इसलिए आहार में बेल मिर्च, हरी पत्तेदार सब्जियां, मछली, नट्स, टमाटर और कुछ मसालों को शामिल करना मासिक धर्म के दर्द को कम करने के सर्वोत्तम तरीके हैं।

अपने एंटीस्पास्मोडिक और गुणों के साथ दालचीनी मासिक धर्म के दर्द और अन्य परेशान करने वाले लक्षणों से राहत दिलाने में बहुत मददगार साबित हो सकती है। गर्म पेय पदार्थ में दालचीनी डालने और दालचीनी कैप्सूल का सेवन करने से गर्भाशय के संकुचन को रोका जा सकता है।

सौंफ में मौजूद शक्तिशाली फाइटोकेमिकल्स और फाइटोएस्ट्रोजेन पानी की रिटेंशन को कम करते हैं और मासिक धर्म के दर्द को कम करने के लिए महिला हार्मोन को संतुलित करते हैं। सौंफ को कच्चा खाया जा सकता है, पानी में भिगोया जा सकता है और फिर एक डिटॉक्स पेय के तौर पर लिया जा सकता है या डिजर्ट में इस्तेमाल किया जा सकता है।

पीरियड दर्द का घरेलू उपाय के तौर पर अदरक में जिंजीबैन होता है- यह एक शक्तिशाली प्राकृतिक एंजाइम है, जो आपके शरीर को सूजन से बचाने के लिए प्रोस्टाग्लैंडीन को रोकता है। अदरक के कैप्सूल मासिक धर्म में ऐंठन और प्राइमरी डिस्मेनोरिया के अन्य लक्षणों को कम करने के लिए जाने जाते हैं। इससे मासिक धर्म में ऐंठन और प्राइमरी डिस्मेनोरिया के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है।

व्यायाम- अपने शरीर को चारों ओर घुमाना और व्यायाम करना मासिक धर्म में मुश्किल लग सकता है, जब मासिक धर्म में ऐंठन होती है, तब आप आराम करना पसंद करती हैं। हालांकि अगर आप सोच रहे हैं कि पीरियड्स में ऐंठन से कैसे बचा जाए, तो किसी भी तरह की शारीरिक गतिविधि जैसे हल्की स्ट्रेचिंग, वॉकिंग और योग आपकी मदद कर सकते हैं। व्यायाम एंडोर्फिन को जारी करता है। यह एक अच्छा हार्मोन है, जो आपके पेट की मांसपेशियों को शांत करता है, ऐंठन को कम करता है और आपकी समग्र सेहत में सुधार करता है।

एक शोध अध्ययन में पाया गया कि जो महिलाएं सप्ताह में एक बार तीन महीने तक पूरे एक घंटे तक लगातार योग का अभ्यास करती हैं, उन्हें उन महिलाओं की तुलना में मासिक धर्म का दर्द कम महसूस होता है, जो योग नहीं करतीं।

मासिक धर्म में ऐंठन और पीएमएस को कम करने में मदद करने वाले पोज ये हैं:

  • कैट काओ पोज
  • चाइल्ड पोज
  • कोबरा पोज
  • प्लैंक पोज

कॉम्प्लीमेंट्री थेरेपी- एक्यूप्रेशर और एक्यूपंक्चर जैसे नर्व स्टिमुलेशन उपचारों को ऐंठन के इलाज के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है। क्योंकि वे नसों को फिर से जीवंत करके आपके शरीर को आराम देने में मदद करते हैं।

एक कुशल प्राकृतिक चिकित्सक / एक्यूपंक्चर चिकित्सक के हाथों की मालिश आपके पेट, पीठ और उसके आसपास के ट्रिगर बिंदुओं को सक्रिय कर देगी, जिससे मासिक धर्म के दर्द से राहत मिलेगी। आप संपूर्ण अरोमाथेरेपी मालिश के लिए लैवेंडर, गुलाब, या पेपरमिंट जैसे आवश्यक तेलों का इस्तेमाल कर सकती हैं। 

तनाव को मैनेज करें- तनाव और नींद की कमी के चलते शरीर अपनी सूजन नियंत्रित करने में विफल रहता है। तनाव से निपटने के लिए आप संगीत सुन सकती हैं, ध्यान लेने के साथ गहरी सांस ले सकती हैं। इसके अलावा आपको बेहतर गुणवत्ता वाली नींद और दर्द रहित पीरियड्स के लिए रात को अच्छी नींद की जरूरत होती है। जिससे मेलाटोनिन उत्पन्न होता है, यह हमारी नींद को नियंत्रित करने वाले हार्मोन ओव्यूलेशन को उत्तेजित कर सकता है और मासिक धर्म के दर्द को कम कर सकता है।

स्वच्छता बनाए रखें- अतिरिक्त रक्त को साफ करने के लिए हल्के साबुन से मुक्त क्लीन्जर और गुनगुने पानी से नहाएं और उस स्थान को धोएं, जो संभवतः संक्रमण का कारण बन सकता है। ऐसा नहीं होने पर आपके मासिक धर्म का दर्द बढ़ सकता है।

दवाओं का सेवन- मासिक धर्म में ऐंठन से जल्दी राहत पाने के लिए इबुप्रोफेन जैसी दवा ले सकते हैं, जो आपके शरीर में प्रोस्टाग्लैंडीन के स्तर को कम करती हैं। हालांकि डॉक्टर से सलाह लेने से पहले कभी भी इन गोलियों का सेवन न करें क्योंकि दवाएं आपके पाचन तंत्र को प्रभावित कर सकती हैं।

गर्भनिरोधक गोलियां- हार्मोन में असंतुलन के कारण मासिक धर्म की ऐंठन को मैनेज करने के लिए हार्मोनल गर्भनिरोधक गोलियां, पैच और हार्मोनल आईयूडी समाधान हो सकते हैं क्योंकि वे आपके मासिक धर्म को नियंत्रित करते हैं, रक्त प्रवाह को हल्का करते हैं  और गर्भाशय की परत को बहुत मोटा होने से रोकते हैं। 

मान लीजिए डॉक्टर का मानना है कि आपकी ऐंठन इतनी गंभीर है कि इसे केवल दवा से नियंत्रित नहीं किया जा सकता। उस स्थिति में, आप फाइब्रॉएड और एंडोमेट्रियोसिस ऊतकों को सुरक्षित और प्रभावी तरीके से हटाने के लिए ऑपरेशन जैसे विकल्पों पर विचार कर सकती हैं। मासिक धर्म के दर्द से निपटने के लिए हिस्टेरेक्टॉमी आखिरी उपाय होता है, क्योंकि यह पूरे गर्भाशय और गर्भाशय ग्रीवा को स्थायी रूप से हटाकर आपकी प्रजनन क्षमता को समाप्त कर देता है।

रियो पैड्स के साथ अपने मासिक धर्म के दर्द से छुटकारा पाएं-

जब आप गंभीर मासिक धर्म के दर्द से परेशान होती हैं, तो आपके लिए सैनिटरी नैपकिन या टैम्पोन को हर एक से दो घंटे में बदलना किसी बुरे सपने की तरह होगा। यहां तक कि सामान्य मासिक धर्म प्रवाह के लिए बनाए गए कई नियमित सैनिटरी पैड के उपयोग में भी गंदगी का सामना करना पड़ता है। जिससे त्वचा पर चकत्ते और संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है।

बाजार में उपलब्ध विभिन्न प्रकार के सैनिटरी प्रोडक्ट में से हम आपके लिए रियो हैवी फ्लो पैड्स लेकर आए हैं। जो आपके मासिक धर्म के दर्द की सभी समस्याओं को खत्म कर देंगे। साथ ही इस दौरान आपको स्वच्छता बनाए रखने में मदद मिलेगी। यह पीरियड्स के लिए सबसे अच्छे पैड माने जाते हैं।

  • अधिक एब्सॉर्ब करते हैं- रियो पैड विशेष रूप से जापानी एसएपी (सुपर एब्सॉर्बेंट पॉलिमर) तकनीक से बने हैं, जो तीव्र रक्स्राव से निपटने और रिसाव से अधिकतम सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए बने हैं। इसके मल्टी-लेयर कोर प्रभावी रूप से आपको बार-बार बाथरूम जाने से बचाएंगे।
  • अतिरिक्त सपोर्ट- हैवी फ्लो पैड में फ्लो गार्ड्स, साइड विंग्स और वाइड बैक विंग्स होते हैं, ताकि ब्लड पैड से किसी भी तरह से बाहर ना निकल सके। अब आपको अपने सैनिटरी पैड को बदलने के लिए रात के बीच में कई बार उठना नहीं पड़ेगा क्योंकि इन्हें लंबे समय तक के लिए बड़े आकार में तैयार किया गया है। रियो पैड बिना किसी परेशानी के आपके भारी प्रवाह को रोक देंगे।
  • त्वचा के अनुकूल- एंटी-बैक्टीरियल और एलोवेरा के गुणों वाले रियो पैड नकली रसायनों और सुगंध से पूरी तरह मुक्त हैं। इस प्रकार उनके सॉफ्ट-कॉटनी टॉप शीट वाले पैड आपकी संवेदनशील त्वचा के लिए पूरी तरह से अनुकूल हैं और आपको सभी तरह की जलन और घातक संक्रमणों से बचाते हैं।

RIO में हम समझते हैं कि दर्दनाक पीरियड्स कितने कष्टदायक हो सकते हैं और हमने इन पैड्स को बनाने के लिए अच्छे से शोध किया है, जो आपको आपके भारी प्रवाह के दिनों में काफी आराम प्रदान करते हैं।

तो आप किसका इंतजार कर रहे हैं? मासिक धर्म के दर्द को अपने स्टाइल को प्रभावित न करने दें। आज ही रियो को चुनें। इससे अधिक लचीलता और पूर्ण स्वतंत्रता प्राप्त करें।

अंत में हम ये बताना चाहेंगे कि हमारे रियो में इंटेलिजेंट ओडोर (गंध) लॉक तकनीक है। इसलिए यह भारी प्रवाह के लिए बनाए गए बढ़िया सैनिटरी पैड के रूप में जाने जाते हैं। इनसे मासिक धर्म के रक्त की दुर्गंध से बचा जा सकता है, जो आपको मानसिक रूप से भी प्रभावित करती है।

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Trending Stories

Go With The Flow

PMS: Why Do You Get Premenstrual Mood Changes – You Shouldn’t Be Ashamed

May 6, 2022. 10 mins read

Problem Free - PCOD

PCOS: What is PCOS? Signs, Symptoms, Causes, Treatment & More

May 12, 2022. 20 mins read

RIO in Media

Rio Sanitary Napkins: The era of creating a niche brand

November 26, 2021. 15 mins read

Readers also checked out

Start using RIO Heavy Flow Pads during your heavy flow

Anti-bacterial SAP

Guards not wings

Odour lock