Go With The Flow

स्पॉटिंग क्या है – क्यों दिखाई देते है पीरियड्स के पहले स्पॉट्स?

Rate this article
[Total: 0 Average: 0]

जब आप अपने अंडरवियर में खून की एक बूंद देखते हैं, तो आप तुरंत सोचते हैं – ‘क्या यह पीरियड्स है?’ ‘क्या मुझे चोट लगी है?’, ‘क्या यह कोई बीमारी है?’ लेकिन स्पॉटिंग इतनी गंभीर बात नहीं है। पूरे महीने शरीर के अलग-अलग बदलावों के बाद भी, कुछ ऐसी चीजें है जिन्हें  हम अक्सर नजरंदाज कर देते हैं। इन्हीं में से एक है, स्पॉटिंग। स्पॉटिंग क्या है?  पीरियड्स के अलावा भी जब आपको वैजिनल ब्लीडिंग दिखाई दे या छोटे खून के धब्बें नजर आए, उसे स्पॉटिंग कहते है। घबराइए मत इस प्रकार की ब्लीडिंग की दोस्ती किसी बीमारी से नहीं है। आज के इस ब्लॉग में आप जानेंगे की स्पॉटिंग क्या है, स्पॉटिंग क्यों होती है, स्पॉटिंग कब होती है और इसे रोकने के उपाय।

स्पॉटिंग क्या है?

क्या आपने कभी अपने अंडरवियर में खून के धब्बे देखे हैं? भले ही आपका मासिक धर्म न चल रहा हो? ऐसा इसलिए है क्योंकि यह स्पॉटिंग है। जब किसी महिला को पीरियड्स के अलावा कभी हल्की वजाइनाल ब्लीडिंग / रक्तस्राव हो तो उसे स्पॉटिंग कहा जाता है। स्पॉटिंग में रक्त के कुछ धब्बे पड़ते हैं। स्पोटिंग कोई बीमारी नहीं है, बल्कि इसके कई कारण हो सकते है। कभी ये हार्मोनल इंबैलेंस, या कभी गर्भावस्था, या कभी आमतौर पर दवा में बदलाव और योनि के सूखेपन के कारण भी हो सकता है।

स्पॉटिंग कब होती है?

आमतौर पर स्पॉटिंग पीरियड्स के आस पास, पीरियड्स के आने से पहले, और अधिकतर उसके बाद होती है। ये पीरियड्स के बाद कुछ दिनों तक हो सकती है। इसके अलावा भी ये महिलाओं में मेनोपॉज के दौरान हो सकती है। कई बार महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान भी ब्लड स्पॉट्स दिख सकते है। स्पॉटिंग ओव्यूलेशन के दौरान भी हो सकती है।

स्पॉटिंग के कारण।

स्पॉटिंग क्यों होती है, इसके कई कारण हो सकते हैं। कभी कभी शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्ट्रॉन असंतुलन हो जाते है, जिसकी वजह से पीरियड्स आने में देर हो सकती है। और कई बार इसी वजह से हल्की स्पॉटिंग हो सकती है। स्पॉटिंग के अन्य कारण हो सकते हैं,

  • अधिक कसरत
  • तनाव
  • गर्भावस्था
  • ओव्यूलेशन
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस)
  • जन्म नियंत्रण दवाइयां (बर्थ कंट्रोल पिल्स)
  • संक्रमण
  • सरवाइकल पॉलिप्स
  • ब्लड क्लोटिंग से जुड़ी परेशानियां
  • मेनोपॉज, इत्यादि।

स्पॉटिंग रोकने के उपाय।

स्पॉटिंग एक बीमारी नहीं है जिसके लिए कोई दवाई या उपाय हो, पर कुछ ऐसे बचाव है जो आपको स्पॉटिंग से दूर रखने में मदद कर सकते है।

  • अधिक कसरत ना करे, अपनी क्षमता के अनुसार व्यायाम करें
  • ज्यादा कॉन्ट्रेसप्टिव (बर्थ कंट्रोल पिल्स) का इस्तेमाल ना करें
  • हार्मोन्स को नियंत्रित रखने की कोशिश करें
  • अपने खान पान में आयरन को शामिल करें
  • तनाव में ना रहें
  • अच्छी सेहत बनाएं रखे और जंक फूड ना खाएं

पीरियड्स के बाद कुछ दिन ये स्पॉट्स दिखना आम बात है, पर घरेलू उपायों और नुस्खों के बाद भी अगर बार बार स्पॉटिंग हो रही है, तो आप चिकित्सक के पास जरूर जाए और उनसे सलाह लें। पेल्विक एरिया में किसी तरह का कैंसर तो नही बन रहा इसकी पुष्टि करने के लिए पेप स्मीयर टेस्ट भी करवा सकते हैं।

अगर स्पॉटिंग के दौरान भी आपको अधिक रक्तस्राव हो रहा है और रक्तस्राव से अपने कपड़े खराब नही करना चाहते तो इस्तेमाल करे RIO Pads. हर महिला को खुल कर जीने की आजादी है, इसीलिए मैनेज करना बंद करो। और अगर आप पीरियड्स के दौरान दर्द का अनुभव कर रही हैं, तो घरेलू उपचार पाने के लिए यहाँ पर क्लिक करें

निष्कर्ष

स्पॉटिंग प्राकृतिक है और यह ज्यादातर महिलाओं को होता है। लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने आप को साफ, स्वच्छ और सूखा रखें। ऐसा इसलिए है क्योंकि स्पॉटिंग स्वाभाविक होते हुए भी, कुछ लोगों के लिए यह असुविधाजनक हो सकता है।लेकिन यदि आपको  स्पॉटिंग के रंग या मात्रा के बारे में संदेह है, तो डॉक्टर से परामर्श लें।

स्पॉटिंग क्यों होती है, स्पॉटिंग कब होती है, ये हर महिला सोचती है। और यह अच्छी बात है! आप जितने अधिक जिज्ञासु होंगे, आप उतना ही अधिक जानेंगे और उतना ही बेहतर ढंग से अपना ख्याल रख सकेंगे।और जहां तक स्पॉटिंग की बात है तो यह कोई बड़ी बीमारी नहीं है। आप इसे संभाल सकते हैं। घरेलू स्पॉटिंग रोकने के उपाय भी आपके लिए लाभदायक हो सकते है। एक अच्छी सेहत और खान पान बरकरार रखने से स्पॉटिंग की समस्या को टाला जा सकता है।बस धैर्य रखें और ध्यान रखें।

प्रायः पूछे जाने वाले सवाल।

पीरियड के बाद स्पॉटिंग कैसे बंद हो जाती है?

– स्पॉटिंग कितने दिन होती है इसका कोई स्पष्ट जवाब नही है पर पीरियड्स के बाद 1-2 दिन तक स्पॉटिंग बंद हो जाती है।

क्या स्पॉटिंग नॉर्मल है?

– स्पॉटिंग कोई बीमारी नहीं है और ये काफी नॉर्मल है। हां पर अधिक मात्रा में रक्तस्राव होने पर डॉक्टर को दिखाना ही लाभदायक है।

स्पॉटिंग कैसा दिखता है?

– स्पॉटिंग छोटे खून के धब्बों जैसे दिखते है। इसके लिए आपको पैड्स या टेम्पोंस इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं होगी।

क्या स्पॉटिंग का मतलब प्रेगनेंसी है?

– स्पॉटिंग के कई कारण हो सकते है, जिनमे से गर्भावस्था भी एक है। प्रेगनेंसी के  पहली तिमाही में स्‍पॉटिंग होना नॉर्मल बात है।

स्पॉटिंग कितने दिन होती है?

– आम तौर पर स्पॉटिंग पीरियड्स के बाद 1-2 दिन तक ही होती है। इसके बाद स्पॉटिंग होना असामान्य हो सकता है।

Comments

facebook twitter whatsapp whatsapp
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Start using RIO Heavy Flow Pads during your heavy flow

Anti-bacterial SAP

Guards not wings

Odour lock

x

RIO is at the centre of every peRIOd!

Sign up to stay connected with us!