Go With The Flow

रसौली: लक्षण, कारण और इसके प्रकार

Rate this artcile
[Total: 0 Average: 0]
आपने रसौली के बारे में सुना होगा। सुनने मे अजीब से लगने वाली यह समस्या कब आम से गंभीर बन जाती है, पता नहीं चलता। आखिर यह बला क्या है जो कि गर्भाशय में गंभीर समस्याएं पैदा कर सकती है? सरल भाषा में जानते हैं कि रसौली क्या है, यह कितने प्रकार का होता है, इसके लक्षण क्या हैं, कारण क्या हैं, और क्या है रसौली का घरेलू इलाज।

रसौली क्या है?

रसौली या फाइब्रॉएड गैर-कैंसरयुक्त वृद्धि हैं जो एक महिला के गर्भाशय में या उसके आसपास विकसित होती हैं। ये हल्के ट्यूमर हैं जो चिकनी मांसपेशी कोशिकाओं और रेशेदार संयोजी ऊतक (फाइब्रस कनेक्टिव टिशूज) से बने होते हैं।

रसोली के लक्षण

रसौली अधिकांश समय अपने तक ही सीमित रहते हैं और उनकी मौजूदगी का एहसास भी नहीं होता, लेकिन कभी-कभी उनके लक्षण स्पष्ट होते हैं, जैसे कि:
  • भारी मासिक धर्म रक्तस्राव, जिसे 7 दिनों से अधिक समय तक चलने वाले रक्तस्राव या हर एक या दो घंटे में पैड बदलने की आवश्यकता पड़ने वाले भारी रक्तस्राव के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। ऐसे समय में RIO Pads के Heavy-Flow Pads काफी कारगर हैं जो तीन गुना अवशोषण (अब्सॉर्प्शन), बड़े विंग्स के साथ लंबे, मोटे और चौड़े होते हैं।
  • दर्दनाक माहवारी, जिसके कारण पेट के निचले हिस्से में ऐंठन, तेज दर्द या बेचैनी हो सकती है।
  • पेल्विक दबाव या बेचैनी, जो पेल्विक में लगातार भारीपन या वजन जैसा महसूस हो सकता है।
  • बार-बार पेशाब आना, जो मूत्राशय पर रसौली के दबाव के कारण हो सकता है।
  • गर्भधारण करने में कठिनाई या बांझपन, जो रसौली द्वारा फैलोपियन ट्यूब को अवरुद्ध करने या फर्टलाइज्ड एग के इम्प्लांटेशन को बाधित करने के कारण हो सकता है।
  • पेट में सूजन या ब्लोटिंग, जिससे पेट सामान्य से बड़ा दिखाई दे सकता है।
  • सेक्स के दौरान दर्द, जो गर्भाशय ग्रीवा या योनि पर रसौली के दबाव के कारण हो सकता है।

रसौली के कारण

रसौली के सटीक कारणों को पूरी तरह से समझा नहीं गया है, लेकिन माना जाता है कि इसके कुछ मुख्य कारकों में शामिल हैं:
  • आनुवंशिकी (जेनेटिक्स):अगर परिवार में पहले भी किसी को रसौली रहा हो तो बाद के जेनरेशन में इसके विकसित होने की संभावना बढ़ जाती है।
  • हार्मोन:रसौली हार्मोन, मुख्य रूप से एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन से बहुत प्रभावित होते हैं। ये हार्मोन प्रत्येक मासिक धर्म चक्र के दौरान गर्भाशय की परत (एंडोमेट्रियम) के विकास को उत्तेजित करते हैं। हार्मोनल संकेतों के कारण गर्भाशय की मांसपेशियों में कोशिकाएं असामान्य रूप से बढ़ सकती हैं, जिससे रसौली बनता है।
  • वजन:शरीर में अतिरिक्त वसा से एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ सकता है, जो रसौली के विकास को बढ़ावा दे सकता है।
  • चिकित्सीय स्थितियाँ:उच्च रक्तचाप या मधुमेह जैसी बीमारियाँ रसौली विकसित होने के जोखिम को बढ़ा सकती हैं।

रसौली के प्रकार

रसौली कई प्रकार के होते हैं, जिन्हें उनके स्थान और विकास पैटर्न के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। मुख्य प्रकार हैं:
  • इंट्राम्यूरल फाइब्रॉएड:ये सबसे आम प्रकार हैं और गर्भाशय की मांसपेशियों की दीवार के भीतर बढ़ते हैं।
  • सबम्यूकोसल फाइब्रॉएड:ये गर्भाशय की परत के ठीक नीचे बढ़ते हैं और भारी रक्तस्राव और अन्य लक्षण पैदा कर सकते हैं।
  • सबसेरोसल फाइब्रॉएड:ये गर्भाशय के बाहर बढ़ते हैं और आस-पास के अंगों पर दबाव डाल सकते हैं।
  • पेडुंक्युलेटेड फाइब्रॉएड:ये एक डंठल जैसी संरचना द्वारा गर्भाशय से जुड़े होते हैं और या तो इंट्राम्यूरल या सबसेरोसल हो सकते हैं।

रसौली का घरेलू इलाज

रसौली का कोई गारंटीशुदा घरेलू उपचार नहीं है, क्योंकि इसके लिए उचित चिकित्सा निदान और उपचार की आवश्यकता होती है। हालाँकि, रसौली का आयुर्वेदिक इलाज में कुछ चीजें सुझाई जाती है, जैसे कि:
    • पेट पर अरंडी के तेल का पैक लगाने से सूजन और दर्द को कम करने में मदद मिल सकती है।
    • आहार में हल्दी को शामिल करें। हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो रसौली के रोकथाम में सहायक होते हैं।
    • एप्पल साइडर विनेगर को पानी में मिलाकर पीने से पीएच संतुलन को बहाल करने में मदद मिलती है।
    • पैदल चलना, तैराकी या योग जैसे हल्के व्यायाम से रसौली को बढ़ने से रोका जा सकता है।
    • अधिक फल, सब्जियाँ, साबुत अनाज, फलियाँ खाएँ। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थ (प्रोसेस्ड फूड्स) मांस, डेयरी, कैफीन, शराब, इत्यादि से बचें।

Our products

RIO Heavy Flow Sanitary Pads

RIO Cottony Soft Sanitary Pads

RIO Comfort Weave Sanitary Pads

निष्कर्ष

हालांकि रसौली कष्टप्रद हो सकते हैं, मगर वे हमेशा चिंता का कारण नहीं होते। यदि आप किसी भी लक्षण का अनुभव कर रहे हैं, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें जिससे कि जल्द-से-जल्द रसौली का इलाज किया जा सके।

FAQs

रसौली का मुख्य कारण क्या है?

रसौली के मुख्य कारकों में आनुवंशिकी, हार्मोन और जीवनशैली कारकों सहित कारकों का संयोजन शामिल है।

क्या रसौली निकल सकता है?

हाँ, रसौली को निकाला जा सकता है। इसके लिए विभिन्न उपचार विकल्प उपलब्ध हैं, जिनमें रसौली को छोटा करने के लिए दवाएं देना या उन्हें हटाने के लिए सर्जिकल प्रक्रियाएं शामिल हैं।

रसौली कैसा दिखता है?

रसौली ठोस और गोलाकार रूप में होते हैं जो गर्भाशय की दीवार में विकसित होते हैं। वे आकार में छोटे (1 सेमी से कम) से लेकर बड़े (20 सेमी से अधिक) तक के हो सकते हैं।

रसौली कहां से आते हैं?

रसौली गर्भाशय की दीवार में चिकनी मांसपेशियों की कोशिकाओं से उत्पन्न होते हैं। ऐसा माना जाता है कि वे कुछ आनुवांशिक और हार्मोनल कारकों से बढ़ते हैं।

Comments

facebook twitter whatsapp whatsapp
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Start using RIO Heavy Flow Pads during your heavy flow

Anti-bacterial SAP

Guards not wings

Odour lock

x

RIO is at the centre of every peRIOd!

Sign up to stay connected with us!